पानी एक बूंद नहीं,बिल हजारों में

आगरा की नगला हवेली की तरह 34 अन्य कॉलोनियों के 18 हजार लोग पानी की पाइप लाइन होने के बावजूद पानी के लिए परेशान हैं। यहां दो साल पहले पाइप लाइन डाल दी गई लेकिन घरों में कनेक्शन नहीं दिए। अब इन लोगों ने मांग की है कि इन्हें पानी दिया जाए।
ये कॉलोनियां दयालबाग, कमला नगर और सदर क्षेत्र की हैं। इनमें टैगोर नगर, सुदामा बाग, दयानंद नगर, निराला नगर, सौरभ कुंज, पुरुषोत्तम नगर, तुलसी बाग, दयानंद बाग, नटराज पुरम, कावेरी कुंज, सुभाष नगर, अवधेश पुरी, अमिता बिहार, अनुराग नगर, रोशन बाग, दुर्गा नगर, जागेश्वर नगर, प्रेमानंद, शिवपुरी, आदर्श नगर, राधिका बिहार, मीनाक्षीपुरम, डिफेंस स्टेट, बालाजी नगर, सुधा बाग, ओम बिहार, ब्रिज बिहार, बुंदू कटरा, सेवला, उखर्रा शामिल हैं।

जलनिगम ने 2 साल पहले अमृत योजना के तहत नगला हवेली और उसकी तरह इन 34 कॉलोनियों में पानी के कनेक्शन कागजों में जारी कर दिए। इन सब की रिपोर्ट उसने नगर निगम के जलकल विभाग को भी भेज दी है, जिसके बाद दयालबाग की तरह यहां भी पानी के 2 साल के बिल आने शुरू हो जाएंगे। दयालबाग में 10 से 12 हजार का 2 साल का बिल लोगों के पास पहुंचा तो वह चौंक गए। एक बूंद पानी भी उनके घर नहीं आया लेकिन दस हजार रुपये का बिल उनके पास भेजा गया है। इन कॉलोनियों के लोगों के पास भी बिल भेजने की तैयारी की जा रही है। जलनिगम के रिकॉर्ड में यह 2 साल पहले शामिल कर लिए गए।

जल निगम और जलकल विभाग पानी न पहुंचने की समस्या को लेकर एक दूसरे को दोषी ठहरा रहे हैं परंतु 2 साल में किसी भी जिम्मेदार अफसर ने यह चेक करने की कोशिश नहीं की इतना धन खर्च करने के बाद भी लोगों के घरों तक पानी पहुंचा कि नहीं और ऑफिस में बैठे-बैठे सबको कनेक्शन दे दिए और बिल भी भेज दिए।
बिछाई गई पाइप लाइन से पानी ना मिलने के संबंध में निवासियों ने शिकायत की कि जो पाइप लाइन बिछाई गई थी उसके कनेक्शन तक नहीं दिया गया और हम लोग अपनी पानी की जरूरत और जगह से पूरा कर रहे हैं लेकिन हजारों रुपए के बिल बिना पानी के भेज दिए गए हैं।