छात्रवृत्ति घोटाले

मथुरा जिले में करोड़ों रुपये के छात्रवृत्ति घोटाले में घिरे 68 आईटीआई संचालकों को समाज कल्याण विभाग ने तलब किया है। इन सभी को 12 जनवरी को अपना-अपना पक्ष प्रस्तुत करने के लिए लखनऊ मुख्यालय बुलाया गया था। सोमवार को सभी आईटीआई संचालक लखनऊ पहुंच गए। कुछ लोग अपना पक्ष रख भी चुके हैं। करोड़ों रुपये के छात्रवृत्ति घोटाले की जांच का पहला चरण 12 जनवरी को शुरू हो गया है। पहली बार विभाग ने जनपद के उन सभी आईटीआई संचालकों को लखनऊ बुलाया, जिन पर छात्रवृत्ति में फर्जीवाड़ा कर करोड़ों रुपये गबन का आरोप है। विभाग ने इन सभी को करीब 10 दिन पहले ही नोटिस दे दिया था। इसमें बताया गया था कि इन सभी को 12 जनवरी को समाज कल्याण विभाग के लखनऊ कार्यालय में पेश होना है। इस नोटिस पर सभी कागजातों के साथ जनपद में एफआईआर में नामजद 62 आईटीआई विद्यालयों के संचालक तथा चार अन्य आईटीआई संचालक लखनऊ समाज कल्याण विभाग के कार्यालय पहुंच गए। उन्होंने सभी कागजात विभाग के कार्यालय में दिए। इन पर अधिकारियों ने सुनवाई की। संख्या अधिक होने के कारण कुछ संचालक अगले दिन अपने जबाव देने के लिए रुके रहे। इसके बाद करोड़ों रुपए की रिकवरी भी हो सकती है।